समाचार
आईटी क्षेत्र में वर्क फ्रॉम होम के नियम स्थाई रूप से लागू, मोदी बोले, “युवा करेंगे प्रगति”

कोविड-19 के दौर में वर्क फ्रॉम होम के लिए नियमों में जो छूट दी गई थी, उसे आईटी क्षेत्र में अब स्थाई रूप से लागू कर दिया गया है। बिजनेस प्रोसेसिंग आउटसोर्सिंग (बीपीओ) को प्रोत्साहित करने के लिए पुराने नियमों में परिवर्तन किए गए हैं।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, “देश का आईटी सेक्टर हमारा गौरव है। पूरी दुनिया इसकी ताकत को मानती है। सरकार देश में नवप्रवर्तन और वृद्धि के लिए सुगम माहौल सुनिश्चित करने को प्रतिबद्ध है। इस निर्णय से देश के युवाओं को आगे बढ़ने और तरक्की करने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा।”

संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद के मुताबिक, विभाग ने आईटी उद्योग को प्रोत्साहित करने के लिए बड़ा सुधार किया है। इससे आईटी और बीपीओ उद्योग को अधिक बल और प्रोत्साहन मिलेगा। नए बदलाव में अन्य सेवा प्रदाता को अब पंजीयन कराने की आवश्यकता नहीं होगी। बैंक गारंटी भी खत्म कर दी गई। एक स्थिर आईपी रखने और समय-समय पर सरकार को रिपोर्ट भेजने की बाध्यता नहीं होगी। दंडात्मक प्रावधानों को समाप्त कर दिया गया है।

बता दें कि कई उद्योग लंबे समय से वर्क फ्रॉम होम के मामले में सरकार से राहत की माँग कर रही हैं। वे इसे स्थाई तौर पर जारी रखने के पक्ष में हैं।