समाचार
पश्चिम बंगाल और ओडिशा सहित अन्य राज्यों में भाजपा कार्यकर्ताओं पर हो रहे हमले

देशभर में राजनितिक हिंसा बढ़ती दिख रही है। ऐसे में पश्चिम बंगाल के पुरुलिया जिले में भाजपा कार्यकर्ता का शव एक पेड़ से लटका पाया गया। मृतक का नाम सिसुपाल सहिस और आयु 22 वर्ष बताई जा रही है।

सिसुपाल सहिस भाजपा युवा मोर्चा का सदस्य था और उसके पिता सिरकाबाद ग्राम पंचायत के उप-प्रधान हैं। पुरुलिया में ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कि भाजपा कार्यकर्ताओं की मृत्यु हुई हो। पिछले वर्ष पंचायत के चुनाव के दौरान भरी हिंसा में 20 वर्षीया त्रिलोचन महतो की हत्या कर दी गई थी वहीं इस से पहले दुलाल कुमार के भी मरने की खबर आई थी। हत्या के इन दोनों घटनाओं को राजनितिक हत्या का मामला बताया जा रहा है।

लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के दौरान ओडिशा में भी भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ भरी हिंसा देखने को मिली। बताया जा रहा है कि ओडिशा में हुई हिंसा के पीछे बीजू जनता दल का हाथ है। ओडिशा के गंजाम जिले में 32 वर्षीया भाजपा के नेता संतोष पति की मार-मार कर हत्या करदी वहीं इस से पूर्व गंजाम जिले में ही भाजपा के नेता का शव मिला था।

ओडिशा के केंद्रपारा जिले में एक परिवार के तीन लोगों पर भाजपा की रैली में जाने पर बारीमूला ग्राम पंचायत के सरपंच और बीजू जनता दल के सदस्यों ने नुकीले हथियारों से हमला किया। वहीं भुबनेश्वर के पास खुदरा में भाजपा के नेता मंगली जेना की गोली मार कर हत्या कर दी गई। 17 अप्रैल को राज्य के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के खिलाफ बीजेपुर में भाजपा की तरफ से चुनाव लड़ने वाले सनत गड़तिया पर पत्थरों से हमला किया गया।