समाचार
मोदी की ‘विजय’, मिली यूके से स्वीकृति- 8 महीनों के भीतर भारत लाया जाएगा माल्या

यूनाइटेड किंगडम (यूके) के गृह कार्यालय ने अंततः वित्तीय भगोड़े विजय माल्य के प्रत्यर्पण की स्वीकृति दे दी है, इकोनॉमिक टाइम्स  ने बताया। गृह सचिव साजिद जाविद ने आदेश पर हस्ताक्षर कर माल्या को भारत लाने की राह को औपचारिक रूप से खोल दिया। हालाँकि, माल्या के पास उच्चतर न्यायालय में याचिका दायर करने के लिए अभी 14 दिनों का समय है।

सूत्रों के अनुसार माल्या को भारत लाने में 8 महीनों का समय लगेगा क्योंकि तब तक वह यूके में खुद को बचाने के सभी वैधानिक तरीकों को भुनाएगा। प्रत्यर्पण के इस आदेश पर 4 फरवरी 2019 को हस्ताक्षर किए गए।

विजय माल्या पर धोखाधड़ी, फीमा के तहत काले धन को वैध करने और भारतीय बैंकों से 9,000 करोड़ रुपये के ऋण को न चुकाने का आरोप है। वित्तीय अनियमितता के कारण विघटित किंगफिशर एयरलाइन्स ने कई कर्मचारियों को मझधार में छोड़ दिया था।

इस प्रगति पर प्रतिक्रिया देते हुए केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि मोदी सरकार द्वारा वित्तीय भगोड़ों को वापस लाने का यह एक और प्रयास है, जबकि विपक्षी पार्टियाँ शारदा चिट फंड में घोटाला करने वालों का समर्थन करने में व्यस्त हैं।