समाचार
“डेढ़ वर्ष में राम मंदिर निर्माण के लिए सरकार पर बनाएँगे दबाव”- विश्व हिंदू परिषद

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के मुद्दे पर चर्चा के लिए इस महीने के अंत में शीर्ष नेताओं की एक बैठक बुलाई है। इसमें मंदिर को लेकर प्रस्ताव पारित कर प्रधानमंत्री मोदी को सौंपा जाएगा।

लाइव हिंदुस्तान  की रिपोर्ट के अनुसार, विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा, “संगठन राम मंदिर निर्माण पर अनिश्चितकाल तक इंतज़ार नहीं करेगा। राम मंदिर में एक से डेढ़ साल में काम शुरू हो जाएगा। विहिप की मार्गदर्शक समिति 19-20 जून को हरिद्वार में बैठक करके एक प्रस्ताव पारित करेगी, जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सौंपा जाएगा। हम सरकार पर दबाव बनाएँगे। भाजपा भी चाहती है कि मंदिर का निर्माण हो। ”

उन्होंने कहा, “विहिप दो मुद्दों पर बिल्कुल भी समझौता नहीं करने वाला है। पहला भगवान राम के जन्मस्थान पर सिर्फ मंदिर बनेगा और दूसरा यह कि अयोध्या की सांस्कृतिक सीमाओं के भीतर कोई मस्जिद नहीं हो सकती है। हम प्रस्ताव पारित कर प्रधानमंत्री को देंगे और उन्हें याद दिलाएँगे कि उन्होंने घोषणा पत्र में इसे बनवाने का वादा किया था।”

फिलहाल राम मंदिर का मामाल सर्वोच्च न्यायालय में विचाराधीन है। अदालत ने सभी हितधारकों से बात करके 15 अगस्त को एक रिपोर्ट देने के लिए वार्ताकारों की तीन सदस्यीय समिति नियुक्त की है। प्रधानमंत्री ने खुद भी तय किया है कि सरकार न्यायिक प्रक्रिया के परिणाम का इंतज़ार करेगी।