समाचार
वंदे भारत एक्सप्रेस को बनाया जा रहा है उपद्रव रोधक, लगाए जाएंगे मज़बूत शीशे और कैमरे

भारत की पहली अर्ध तेज़ ट्रैन वंदे भारत एक्सप्रेस पर पत्थर फेंकने की इतनी घटनाएं होने के बाद मंत्रालय इसे भविष्य के लिए सुरक्षित और उपद्रव रोधक ट्रैन बनाने के भी प्रयास की तरफ कदम बढ़ा रही है, टाइम्स ऑफ इंडिया  ने रिपोर्ट किया।

उत्तर-मध्य रेलवे के जन संपर्क अधिकारी अमित मालवीय ने बताया कि इंटीग्रल कोच फैक्ट्री के विशेज्ञ इसे सुरक्षित बनाने के प्रयासों में जुटी हुई है, ट्रैन के शीशे और खिड़कियों को मज़बूत बनाने की राह काम चल रहा है।

ट्रैन के शीशों और खिड़कियों को मज़बूत बनाने के लिए विनाइल की परत लगाने का काम चाल रहा है। इस कदम पर आगे मालवीय ने बताया कि यह करने से ट्रैन की खिड़कियों को मज़बूती मिलेगी और साथ ही अगर कोई खिड़कियों पर हमला करेगा तो उससे खिड़कियों में सिर्फ एक दरार आएगी, वह पूरी तरह से नहीं टूट पाएंगी।

इस परत से यात्रियों को निजता मिलेगी और साथ ही बाहर से ट्रैन के अंदर कोई नहीं देख पाएगा पर अंदर से यात्री ट्रैन के बाहर देख पाएंगे।

ट्रैन पर किए गए पथराव के बहुत मामलों की जांच के लिए रेलवे पुलिस बल और सरकारी रेलवे बल के अधिकारियों का गठन किया गया था। साथ ही साथ ऐसे हमलों को रोकने के लिए ट्रैन के बाहरी तरफ सीसीटीवी कैमरा भी लगाने का तय किया गया है।