समाचार
बाबा केदारनाथ मंदिर के कपाट लॉकडाउन के बीच कल विधि-विधान के साथ खोले जाएँगे

कोरोनावायरस की महामारी को लेकर देशभर में हुए लॉकडाउन के बीच उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में हिमालय पर स्थित बाबा केदरनाथ मंदिर के कपाट बुधवार (29 अप्रैल) को खोले जाएँगे।

चारधामों में से एक बाबा केदरनाथ मंदिर के कपाट भारी बर्फबारी की वजह से छह महीने तक बंद रहते हैं। कपाट बंद होने के बाद भगवान केदारनाथ की मूर्ति को उनके शीतकालीन निवास उखीमठ में स्थानांतरित कर दिया जाता है, जहाँ अगले छह महीने तक उनकी पूजा की जाती है।

इससे पूर्व, रविवार (26 अप्रैल) को बाबा केदारनाथ की मूर्ति ले जाने वाली पालकी ने ऊखीमठ से मंदिर तक की यात्रा शुरू की। भीमबली में रात भर रहने के बाद भगवान की मूर्ति मंगलवार (28 अप्रैल) को केदारनाथ मंदिर पहुंचने वाली थी। हालाँकि, प्रशासन के निर्देश पर मूर्ति को सोमवार (27 अप्रैल) को केदारनाथ स्थानांतरित कर दिया गया।

बुधवार को मंदिर के दरवाजे सभी धार्मिक अनुष्ठानों और वैदिक मंत्रों के जाप के साथ सुबह 6.10 बजे खोले जाएँगे। इसके बाद भगवान की मूर्ति को मंदिर में रखा जाएगा। देशव्यापी लॉकडाउन के कारण केदारनाथ मंदिर सहित चारधाम की तीर्थयात्रा की अनुमति नहीं है।

इससे पूर्व, गंगोत्री और यमुनोत्री मंदिरों के कपाट 26 अप्रैल को खोले गए थे। लॉकडाउन की वजह से पहले राज्य सरकार ने बद्रीनाथ मंदिर के कपाट खोलने की तिथि 30 अप्रैल से 15 मई तय कर दी थी। हालाँकि, तीर्थ पुरोहितों के परामर्श के बाद अब बाबा केदारनाथ के मंदिर के कपाट खोलने की तिथि को बिना बदलाव के 29 अप्रैल कर दिया गया है।