समाचार
उत्तर प्रदेश आर्थिक सुधार की ओर- दिसंबर का राजस्व संग्रह 2500 करोड़ रुपये से अधिक

उत्तर प्रदेश के कर और गैर-कर राजस्व के कुल संग्रह में दिसंबर 2020 में करीब 2,522 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई, जो गत वर्ष के इसी महीने की तुलना में अधिक है।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, 2020-2021 की पहली तीन तिमाहियों में राज्य के कुल संग्रह में भी काफी सुधार हुआ है। हालाँकि, यह अब भी वित्तीय वर्ष के पूरे लक्ष्य से पीछे है। अधिकारी अंतिम तिमाही में इसके पूरे होने की उम्मीद कर रहे हैं।

दिसंबर 2020 में परिवहन और आबकारी विभागों द्वारा कुल संग्रह लक्ष्य से अधिक हुआ। परिवहन विभाग ने 648.75 करोड़ रुपये के लक्ष्य के मुकाबले 734.44 करोड़ रुपये का संग्रह किया। वहीं, उत्पाद शुल्क संग्रह 3,090 करोड़ रुपये के लक्ष्य के मुकाबले 3,149.04 करोड़ रुपये है।

उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा, “हाँ, राज्य की अर्थव्यवस्था पर कोविड-19 का प्रतिकूल प्रभाव पड़ने के बावजूद हमारा राजस्व संग्रह जुलाई 2020 से ऊपर की ओर जा रहा है। हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशों के तहत आर्थिक मंदी से उबर रहे हैं।”

योगी सरकार 2021-22 का बजट पेश करने के लिए जल्द एक विधानसभा सत्र बुला सकती है। यह राज्य में 2022 के चुनावों से पहले अंतिम पूर्ण बजट होगा।