समाचार
सैनिकों की तस्वीरों को चुनाव के लिए नहीं कर सकते हैं इस्तेमाल- चुनाव आयोग

शनिवार (9 मार्च) को चुनाव आयोग ने सभी राजनितिक दलों के लिए आदेश जारी किया है कि लोकसभा चुनावों के लिए कोई भी राजनितिक दल सैनिकों की तस्वीरों का इस्तेमाल नहीं करेगा। चुनाव आयोग ने बताया है कि राजनीतिक पार्टियाँ  2019 के लोकसभा चुनावों के विज्ञापनों में सैनिकों की तस्वीरों की सहायता ले रहीं हैं इसलिए चुनाव आयोग ने सैनिकों की तस्वीरों के इस्तेमाल का विरोध का किया है।

चुनाव आयोग ने 2013 में जारी किए आदेश को एक बार फिर दोहराया है और चुनाव प्रचार के इस तरीके के खिलाफ अपना आदेश जारी किया है।  आपको बता दें कि 2013 में रक्षा मंत्रालय द्वारा चुनाव आयोग को यह शिकायत की गई थी कि राजनितिक पार्टियाँ अपने वोट बैंक को बढ़ाने के लिए और चुनाव प्रचार करने के लिए सैनिकों की तस्वीरों का इस्तेमाल कर रही हैं जिस पर चुनाव आयोग ने रक्षा मंत्रालय का साथ देते हुए कहा था कि भारतीय सेना पूरी तरह से अराजनैतिक है और इसे राजनीती में न घसीटा जाए।

जानकारी के लिए बता दें कि हाल-फ़िलहाल में चल रहे भारत पाकिस्तान के बीच तनाव में जिस तरह भारतीय सेना बहुत ही बहादुरी से देश की रक्षा कर रही है उसके बाद पूरा भारत सेना के पक्ष में है और पूरी तरह से सेना का मनोबल बढ़ाने में लगा हुआ है ऐसे में देश की राजनीतिक पार्टियाँ लोगों का विश्वास को जीतने के लिए सैनिकों की तस्वीरों का इस्तेमाल कर रही हैं।