समाचार
अमेरिकी विदेश मंत्री ने की एस जयशंकर, अजित डोभाल, दलाई लामा के प्रतिनिधि से भेंट

दो दिवसीय भारत दौरे पर आए अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने बुधवार (28 जुलाई) को अपने भारतीय समकक्ष एस जयशंकर से भेंट की। यही नहीं, उन्होंने नागरिक संस्था के नेताओं से भी भेंट की, जिसमें तिब्बत बौद्ध गुरु वेन गेशे दोरजी दामदुल (नई दिल्ली स्थित दलाई लामा सांस्कृतिक केंद्र के निदेशक) भी सम्मिलित थे।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, एस जयशंकर के साथ भेंट में एंटनी ब्लिंकन ने कहा, “हमने जो साथ काम किया और आने वाले समय में जो करेंगे, उसकी सराहना करता हूँ। ऐसी कोई चुनौती नहीं है, जिसका हमारे नागरिकों पर प्रभाव न पड़ा हो। फिर चाहे वह कोविड हो या उभरती प्रौद्योगिकियों का नकारात्मक असर। राष्ट्रपति जो बाइडन भारत व अमेरिकी के संबंधों को सशक्त रखने के लिए संकल्पित हैं।”

एस जयशंकर ने कहा, “हिंद-प्रशांत महासागर में शांति हमारे लिए उतनी ही महत्वपूर्ण है, जितनी अफगानिस्तान में लोकतंत्र की स्थिरता। एक सहयोगी मंच के रूप में क्वॉड हमारे पारस्परिक हित में हैं। हमें आतंकवाद जैसी चुनौतियों पर मिलकर काम करना चाहिए।” अमेरिकी विदेश मंत्री ने राष्ट्रीय सुरक्षा सचिव अजीत डोभाल से भी दक्षिण ब्लॉक जाकर भेंट की।

इससे पूर्व, ‘समान, समावेशी एवं सतत विकास और विकास को आगे बढ़ाने’ के विषय पर नागरिक संस्था की बैठक को संबोधित करते हुए एंटनी ब्लिंकन ने कहा, “मुझे सिविल संस्था के प्रतिनिधियों से मिलकर खुशी हुई। अमेरिका और भारत लोकतांत्रिक मूल्यों के प्रति प्रतिबद्धता साझा करते हैं। यह हमारे संबंधों की बुनियाद का हिस्सा है। नागरिक संस्थाएँ इन मूल्यों को बढ़ावा देने में सहायता करती हैं।”