समाचार
अमेरिका ने बीमारियों की आशंका जता चीन से वन्यजीव मांस बाज़ार बंद करने को कहा

अमेरिकी विदेश सचिव माइक पॉम्पियो ने बुधवार (22 अप्रैल) को चीन से सभी वन्यजीवों के मांस को बेचने वाले बाज़ारों को बंद करने को कहा है। उनका दावा है कि कई ज़ूनोटिक (जानवरों से होने) वाली बीमारियों के लिए ये ज़िम्मेदार हो सकते हैं।

रायटर्स की रिपोर्ट के अनुसार, मांस के ये बाज़ार बुशमीट (जंगली जानवरों का मांस) की बिक्री के लिए जाने जाते हैं। अमेरिका का आरोप है कि मौजूदा कोविड-19 महामारी का यही कारण है क्योंकि चमगादड़ और पैंगोलिन के मांस से व्यक्ति सार्स-सीओवी-2 से संक्रमित हो गया।

पॉम्पियो ने बयान में कहा, “बाज़ारों में अवैध रूप से बेचे जाने वाले वन्यजीवों के मांस और जूनोटिक बीमारी के बीच एक मजबूत संबंध दिखा है। अमेरिका ने पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना को बाज़ारों में अवैध रूप से बेचे जाने वाले वन्यजीवों के मीट को स्थायी रूप से बंद करने को कहा है।

हालाँकि, पहले यह बताया गया था कि चमगादड़, बिच्छू, बिल्ली और कुत्तों का मांस बेचे जाने वाले चीन के इन बाज़ारों में फिर से हलचल शुरू हो गई है।

डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, चीन में मांस के बाज़ारों का फिर से खोलना देश के कोरोनोवायरस पर अपनी जीत का जश्न मनाने का तरीका है। कहा जा रहा है कि विवादास्पद बाज़ारों को फिर से खोलने के बावजूद भविष्य में इस तरह की महामारी को रोकने के लिए स्वच्छता मानकों को बढ़ाने का कोई प्रयास नहीं किया जा रही है।

रिपोर्ट में दावा है कि चीन के कई लोग मानते हैं कि महामारी घरेलू रूप से समाप्च हो चुकी है। बाज़ार ठीक उसी तरह से खुल रहे हैं, जिस तरह से कोरोनोवायरस की महामारी से पहले खुला करते थे। अंतर केवल इतना आया है कि अब सुरक्षाकर्मी वहाँ की फोटो खींचने से रोकते हैं।