समाचार
डोनाल्ड ट्रंप ने विदेश नीति को लेकर असहमति पर सुरक्षा सलाहकार बोल्टन को निकाला

संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को अपने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) जॉन बोल्टन की विदेश नीति पर असहमति जताते हुए उन्हें निकाल दिया है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बोल्टन के बारे में घोषणा करते हुए ट्वीट किया, “मैंने कल रात जॉन बोल्टन को सूचित किया कि व्हाइट हाउस में उनकी सेवाओं की अब कोई ज़रूरत नहीं है। मैं उनके कई सुझावों से असहमत था जैसा कि प्रशासन के अन्य लोगों के साथ होता है।”

ट्रंप ने ट्वीट किया, “मैंने जॉन से उसके इस्तीफे के लिए कहा, जो मुझे आज सुबह दिया गया था। मैं जॉन को उनकी सेवा के लिए बहुत धन्यवाद देता हूँ। मैं अगले सप्ताह एक नए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार का नाम घोषित करूँगा।”

गौर करने वाली बात है कि बोल्टन डोनाल्ड ट्रंप के तीसरे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार थे। अप्रैल 2018 में एनएसए के रूप में एचआर मैकमास्टर की जगह लेने वाले बोल्टन अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोमेदो के साथ थे, जो ट्रंप के भरोसेमंद अधिकारी हैं। माइकल फ्लिन ट्रंप प्रशासन के पहले एनएसए थे लेकिन विवाद के कारण उन्हें एक माह से भी कम समय में इस्तीफा देना पड़ा था।

बोल्टन को एक जटिल विदेश नीति के लिए जाना जाता है। ईरान के खिलाफ राष्ट्रपति ट्रंप की मजबूत स्थिति के पीछे उनका दिमाग था। वह रूस और उत्तर कोरिया से निपटने के लिए एक कठोर दृष्टिकोण के लिए भी दबाव बना रहे थे।

इस बीच, ध्यान दिया जाना चाहिए कि बोल्टन का इस्तीफा उस समय आया, जब यह बताया गया कि उन्होंने अफगानिस्तान में तालिबान के साथ शांति समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए डोनाल्ड ट्रंप की इच्छा का विरोध किया था।