समाचार
कश्मीर को लेकर चिंतित पर उइगर मुसलमानों को लेकर पाकिस्तान चुप क्यों- अमेरिका

दक्षिण और मध्य एशिया के लिए संयुक्त राज्य की कार्यवाहक सचिव एलिस वेल्स ने पाकिस्तान के कश्मीर के मुसलमानों के प्रति अपनी चिंता दिखाने और उसी वक्त में पश्चिमी चीन के मुसलमानों पर हो रहे अत्याचारों पर चुप रहने को लेकर सवाल उठाए हैं।

टाइम्स नाऊ की रिपोर्ट के अनुसार, एलिस वेल्स ने जम्मू-कश्मीर को लेकर पाकिस्तान की चिंताओं के सवाल पर कहा, “पाकिस्तान लगातार उइगर मुसलमानों को चीन के शिंजियांग क्षेत्र में हिरासत में लिए जाने पर चुप रहा है।”

उन्होंने कहा, “मैं पश्चिमी चीन में हिरासत में लिए गए मुसलमानों को लेकर भी उसी स्तर की चिंता देखना चाहूँगी, जो सच में बहुत बुरे हालात में रह रहे हैं। पाकिस्तान को कश्मीर की तुलना में चीन के मुसलमानों की ज्यादा चिंता करनी चाहिए क्योंकि वहाँ मानवाधिकारों का उल्लंघन ज्यादा हो रहा है। यूएन महासभा के दौरान अमेरिकी प्रशासन ने चीन में मुसलमानों की भयानक स्थितियों के मुद्दे को प्रमुखता से उठाया है।”

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान, जो कश्मीरी लोगों के राजदूत होने का दावा करते हैं, कई मंचों पर भारत पर हमला करते रहते हैं। भारत ने जब से जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को समाप्त करके उससे विशेष राज्य का दर्जा छीना है, तब से इमरान खान बौखलाए हुए हैं।

हालाँकि, पहले इमरान खान ने चीन में अल्पसंख्यक समुदाय के बारे में पूछे गए सवालों को यह कहकर टाल दिया था कि उनके अपने देश में बहुत सी परेशानियाँ हैं, जिनके बारे में वह पहले से चिंतित हैं। कई अंतरराष्ट्रीय नागरिक समितियों ने यह आरोप लगाया है कि चीन में उइगर मुसलमानों के अधिकारों का दमन किया जा रहा है और उन्हें पुन: शिक्षा शिविरों के नाम पर बड़े पैमाने पर हिरासत में भेजा जा रहा है।