समाचार
चीनी सैन्य शासन से नियंत्रित होने वाली 20 कंपनियों की यूएस ने बनाई सूची, प्रतिबंध संभव

अमेरिका के रक्षा विभाग ने हुआवे टेक्नोलॉजीज़ सहित 20 चीनी कंपनियों की पहचान कर उनकी सूची बनाई है, जो बीजिंग में सैन्य शासन से नियंत्रित हैं। ट्रंप प्रशासन के इस कदम के बाद चीन का जगह बनाना कठिन होगा।

फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, कांग्रेस को 1999 में सूची बनाने के लिए पेंटागन की आवश्यकता थी लेकिन अधिकारियों ने अनुरोध पर कभी इसका पालन नहीं किया। इस कोशिश को तब गति मिली, जब सांसदों ने बीजिंग के साथ बढ़ते तनाव का जवाब दिया।

1999 का कानून अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा अमेरिका में “प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से” संचालित करने वाली निर्दिष्ट चीनी कंपनियों पर प्रतिबंध लगाने का अधिकार देता है।

– एविएशन इंडस्ट्री कॉरपोरेशन ऑफ चाइना
– चीन एयरोस्पेस विज्ञान और प्रौद्योगिकी निगम
– चीन एयरोस्पेस विज्ञान और उद्योग निगम
– चीन इलेक्ट्रॉनिक्स प्रौद्योगिकी समूह निगम
– चीन दक्षिण उद्योग समूह निगम
– चीन जहाज निर्माण उद्योग निगम
– चीन राज्य जहाज निर्माण निगम
– चीन उत्तर उद्योग समूह निगम
– हांग्जो हिविजन डिजिटल प्रौद्योगिकी सह
– हुआवे
– इन्सपुर समूह
– एयरो इंजन कॉरपोरेशन ऑफ चाइना
– चीन रेलवे निर्माण निगम
– सीआरआरसी कॉर्प
– पांडा इलेक्ट्रॉनिक्स समूह
– डॉविंग सूचना उद्योग सह
– चीन मोबाइल संचार समूह
– चीन जनरल न्यूक्लियर पावर कॉर्प
– चीन के राष्ट्रीय परमाणु कॉर्प
-चीन दूरसंचार कॉर्प

एक अन्य रिपोर्ट में पेंटागन के प्रवक्ता जोनाथन हॉफमैन के हवाले से लिखा गया है कि पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना ने नागरिक और सैन्य क्षेत्रों के बीच की रेखाओं को धुंधला करने का प्रयास किया है। हमारी कोशिश है कि कि यह सूची उपयोगी साबित होगी।

दूरसंचार कंपनियाँ इंफ्रास्ट्रक्चर को 5जी में अपग्रेड करने की होड़ के साथ अमेरिका हुआवे के बारे में दुनिया भर के देशों को सावधान करने का प्रयास कर रहा। अमेरिकी विदेश मंत्री ने हुआवे पर देश के सीसीपी निगरानी के उपकरण होने का आरोप लगाया था।