समाचार
अमेरिका ने भारत को छह और पी8 समुद्री निगरानी विमान बेचने की प्रक्रिया शुरू की

अमेरिका ने शुक्रवार (30 अप्रैल) को संभावित बिक्री के बारे में कांग्रेस को सूचित करते हुए पेंटागन की रक्षा सुरक्षा सहयोग एजेंसी के साथ भारत को छह और पी8 समुद्री निगरानी विमान बेचने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

पूर्व से ही पी-8आई का एक बड़ा बेड़ा संचालित करने वाली भारतीय नौसेना को 2.42 अरब डॉलर की अनुमानित लागत पर पनडुब्बियों का शिकार करने वाले ये विमान मिलेंगे।

भारत ने 2009 में 2.2 बिलियन डॉलर के समझौते में आठ पी-8आई खरीदे थे। 2016 में भारत ने 2009 के समझौते के वैकल्पिक खंड के तहत चार और पी-8आई खरीदने का विकल्प चुना। 2019 में केंद्र सरकार ने नौसेना के लिए 10 अतिरिक्त पी-8 आई खरीदने की अनुमति दी लेकिन बाद में यह संख्या छह हो गई।

छह नए पी-8 की बिक्री विदेशी सैन्य बिक्री मार्ग से होगी। नौसेना वर्तमान में 2016 में अनुबंधित चार पी-8आई को शामिल कर रही है।

भारत बोइंग के पी8 विमान का पहला अंतरराष्ट्रीय ग्राहक था। सभी पी8 विमान जब नौसेना को दिए जा चुके थे, तब भारत अपने बेड़े में इनमें से 18 विमान रखेगा और दुनिया में इस मंच का दूसरा सबसे बड़ा संचालक बन जाएगा।