समाचार
योगी सरकार ने अयोध्या में प्रस्तावित मस्जिद के लिए संभावित भूखंडों की पहचान की

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अयोध्या में बनने वाली मस्जिद के लिए संभावित भूखंडों की पहचान की है। इंडिया टुडे की खबर के अनुसार सर्वोच्च न्यायालय के अयोध्या मामलेे पर हाल के आदेश के अनुपालन करते हुए विवादित भूमि जहाँ पहले बाबरी मस्जिद भी हुआ करती थी उस भूमि पर राम मंदिर निर्माण को हरी झंडी दिखाई थी जिसे हिंदू भगवान राम की जन्मभूमि करार देते हैं।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के योगी सरकार ने मिर्जापुर, शमशुद्दीनपुर और चांदपुर में पाँच भूखंडों की पहचान की है जो, “पंचकोसी परिक्रमा”, के बाहर के क्षेत्र हैं। पंचकोसी परिक्रमा की 15 किलोमीटर की परिधि में बेहद पवित्र माना जाता है।

सर्वोच्च न्यायालय के आदेशानुसार मंदिर निर्माण और अन्य मुद्दों के निवारण हेतु ट्रस्टियों के बोर्ड का गठन होते ही सरकार इन भूखंडों को सुन्नी वक्फ बोर्ड को सौंप देगी।

सर्वोच्च न्यायालय ने 9 नवंबर के अपने फैसले में कहा था कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या के भीतर 5 एकड़ का एक वैकल्पिक भूखंड दिया जाए।

आपको बता दें कि उच्चतम न्यायालय के फैसले के खिलाफ 18 समीक्षा याचिकाएँ दायर की गई थी, लेकिन न्यायालय ने 12 दिसंबर की सुनवाई में उन सभी को खारिज कर दिया गया था।