समाचार
योगी सरकार ने पेश किया ₹ 5,12,860 करोड़ का चौथा पूर्ण बजट, इंफ्रास्ट्रक्चर पर ज़ोर

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार मंगलवार को विधानमंडल के दोनों सदनों में वित्तीय वर्ष 2020-21 का बजट पेश कर रही है। सरकार ने 5,12,860.72 करोड़ रुपये का अपना चौथा पूर्ण बजट पेश किया। पिछले वित्तीय वर्ष 2019-20 के मुकाबले इस बार 33,159 करोड़ रुपये ज्यादा का बजट पेश किया गया।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने बजट के दौरान इंफास्ट्रक्चर पर खास ध्यान दिया। उन्होंने पिछले वर्ष के मुकाबले इस बार 6.5 प्रतिशत से ज्यादा का बजट पेश किया। इस बार 10 हजार 967 करोड़ 87 लाख की नई योजनाएँ शामिल की गई हैं। इस दौरान विनियोग विधेयक सहित कई महत्वपूर्ण प्रस्तावों को मंजूरी दी गई है। बजट में महिलाओं और युवाओं के लिए भी बड़ी घोषणा किए जाने की संभावना है।

बजट की कुछ खास बातें

  • अटल आवासीय विद्यालय के लिए 270 करोड़ रुपये
  • गंगा एक्सप्रेस वे के लिए 2000 करोड़ रुपये
  • अयोध्या में पर्यटन और संस्कृति की योजनाओं के लिए 95 करोड़ और गोरखपुर में रामगढ़ ताल वॉटर खेलों के लिए 25 करोड़ रुपये
  • दिल्ली से मेरठ के बीच रैपिड ट्रांजिट सिस्टम के लिए 900 करोड़ रुपये
  • आगरा मेट्रो के लिए 286 करोड़, जबकि कानपुर मेट्रो के लिए 358 करोड़ रुपये आवंटित
  • गोरखपुर और अन्य शहरों में मेट्रो प्रस्ताव तैयार किए जा रहे हैं। इनके लिए 200 करोड़ रुपये आवंटित
  • अयोध्या में एयरपोर्ट निर्माण के लिए 500 करोड़ रुपये आवंटित
  • राज्‍य सड़क निधि को 1500 करोड़ रुपये
  • मार्ग अनुरक्षण के लिए 3524 करोड़ रुपये
  • बुंदेलखंड निधि के लिए 210 करोड़ रुपये
  • केंद्रीय मार्ग योजना को 2080 करोड़
  • पुलों के निर्माण के लिए 2529 करोड़ रुपये

चिकित्सा के लिए

  • जिला अस्‍पतालों के लिए 70 करोड़ रुपये
  • ग्रामीण सीएचसी के लिए 50 करोड़ रुपये
  • सीएचसी के लिए 65 करोड़
  • एसजीपीजीआई के लिए 820 करोड़ रुपये
  • हरदोई में मेडिकल कालेज प्रस्तावित
  • अस्‍पताल स्‍थापना के लिए 30 करोड़
  • लखनऊ सिविल अस्‍पताल को 50 लाख रुपये
  • ट्रामा सेंटर के लिए 12.50 करोड़
  • केजीएमयू के लिए 919 करोड़