समाचार
हाथरस मामला- मुख्यंमत्री ने गठित की एसआईटी, फास्ट ट्रैक अदालत में चलेगा मुकदमा

हाथरस सामूहिक दुष्कर्म मामले की जाँच के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसआईटी गठित करने की घोषणा की है। गृह सचिव की अध्यक्षता वाली इस तीन सदस्यीय टीम में डीआईजी चंद्र प्रकाश और आईपीएस पूनम को सदस्य बनाया गया है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, योगी आदित्यनाथ ने पूरे घटनाक्रम पर कड़ा रुख अख्तियार करते हुए टीम को घटना की तह तक जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने एक निश्चित समय में जाँच पूरी करने को कहा है।

मामले के चारों आरोपियों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। मुख्यमंत्री ने उनके खिलाफ फास्ट ट्रैक अदालत में मुकदमा चलाकर जल्द से जल्द सज़ा दिलाने के आदेश दिए हैं।

हाथरस में सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद परिवार की अनुमति के बगैर पुलिस द्वारा जबरन अंतिम संस्कार करवाने पर यूपी सरकार पर कई तरह के सवाल खड़े किए जाने लगे थे। दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल जहाँ पीड़िता ने आखिरी सांस ली थीं, उसके बाहर लोगों ने प्रदर्शन किया और कैंडल मार्च निकाला था।

उधर, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मामले में योगी सरकार को घेरते हुए मुख्यमंत्री के इस्तीफा देने की मांग की है। उन्होंने पुलिस द्वारा जबरन पीड़िता का अंतिम संस्कार करवाने को अमानवीय बताया है।