समाचार
“कोविड-19 वैक्सीन अगले वर्ष की शुरुआत तक भारत में आ सकती है”- स्वास्थ्य मंत्री

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने गुरुवार को राज्यसभा में कोविड-19 वैक्सीन को लेकर बताया, “उम्मीद है कि अगले वर्ष की शुरुआत तक देशवासियों को इसकी वैक्सीन उपलब्ध हो जाए। भारत अन्य देशों की तरह ही कोशिश कर रहा है। हमारे पास आगामी योजनाएँ हैं।”

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, “भारत में संक्रण से होने वाली मौतों का प्रतिशत अन्य देशों की तुलना में सबसे कम (1.4) है। सरकार का लक्ष्य इसे घटाकर एक प्रतिशत से भी कम करना है। भारत में मरीजों के स्वस्थ होने की दर 78-79 प्रतिशत है।”

राज्यसभा में हुई चर्चा का जवाब देते हुए उन्होंने कहा, “भले ही कोरोनावायरस के कुल मरीजों की संख्या यहाँ अधिक हो लेकिन अस्पतालों में उपचार करवा रहे कोविड-19 मरीजों की संख्या 20 प्रतिशत से कम है। सरकार भारत में अमेरिका की तुलना में अधिक कोविड जाँच करने पर विचार कर रही है।”

इससे पूर्व, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने भरोसा दिया था कि सरकार वैक्सीन के मानव के ऊपर किए जाने वाले परीक्षण में पूरी तरह सावधानी बरत रही है। वैक्सीन सुरक्षा, लागत, इक्विटी, कोल्ड-चेन आवश्यकताएँ, उत्पादन, समय सीमा आदि जैसे मुद्दों पर भी चर्चा की जा रही है। तैयार होने के बाद इसे उनके लिए पहले उपलब्ध करवाया जाएगा, जिन्हें इसकी अधिक आवश्यकता है।

बता दें कि भारत में तीन वैक्सीन पर काम चल रहा है। आईसीएमआर ने बताया था कि स्वीकृति मिलने के बाद एक वैक्सीन के तीसरे चरण का परीक्षण शुरू हो जाएगा। कैडिला हेल्थकेयर और भारत बायोटेक की वैक्सीन का पहला चरण पूरा हो चुका है। पुणे की सीरम इंस्टीट्यूट की तरफ से 14 जगहों पर तीसरे चरण के दौरान 1500 वॉलेंटियर्स पर दवा का परीक्षण किया जाएगा।