समाचार
“पाकिस्तान में हिंदुओं व ईसाइयों को किया जाता है सबसे अधिक प्रताड़ित”- यूएन रिपोर्ट

पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की स्थिति को लेकर संयुक्त राष्ट्र संघ की रिपोर्ट में आश्चर्यजनक खुलासा हुआ है। कहा गया है कि वहाँ हिंदू समेत सभी अल्पसंख्यक समुदाय के लोग बुरी हालत में हैं। सबसे अधिक हिंदुओं और ईसाइयों को प्रताड़ित किया जाता है।

टाइम्स ऑफ इंडिया  की रिपोर्ट के अनुसार, यूएन ने अपनी रिपोर्ट में कई उदाहरणों से बताया है कि अल्पसंख्यकों को दूसरे दर्जे का नागरिक माना जाता है। उन्हें प्रताड़ित करने के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है।

रिपोर्ट में बताया गया कि इमरान खान सरकार अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा की बजाय कट्टरपंथी विचारों को बढ़ावा देने में लगी हुई है। प्रायः ईश-निंदा कानून का उपयोग अल्पसंख्यकों को प्रताड़ित करने के लिए होता है।

पड़ोसी देश में महिलाओं की स्थिति को लेकर संयुक्त राष्ट्र संघ की सीएसडब्ल्यू रिपोर्ट में धार्मिक स्वतंत्रता का 47 पन्नों में जिक्र किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान में सबसे अधिक हिंदू और ईसाई युवतियाँ निशाने पर रहती हैं।

“हर वर्ष सैकड़ों लडकियों का अपहरण कर जबरन उनका धर्मांतरण करवाया जाता है। उन्हें मुस्लिम पुरुषों से शादी करने के लिए मजबूर किया जाता है। पीड़ित परिवार को कम ही आशा रहती है कि उनकी बच्ची वापस लौटेगी।”, रिपोर्ट में कहा गया।

रिपोर्ट में बच्चों का भी जिक्र है। पाकिस्तान में रहने वाले अल्पसंख्यक बच्चों ने बातचीत में स्वीकारा कि शिक्षक और साथी भी उन्हें अपमानित करते हैं।