समाचार
दुर्गा पूजा करने पर सांसद नुसरत जहां के विरुद्ध उलेमा ने दिया बयान, कहा- ‘यह हराम है’

व्यवसायी निखिल जैन से शादी कर चुकी तृणमूल कांग्रेस की सांसद नुसरत जहां फिर सुर्खियों में हैं। रविवार (6 अक्टूबर) को कोलकाता में दुर्गा पूजा में भाग लेने के बाद मुस्लिम धर्मगुरुओं ने उनपर हमला बोल दिया है।

टाइम्स नाउ की रिपोर्ट के अनुसार, अभिनेत्री से राजनेत्री बनीं नुसरत अपने पति के साथ अष्टमी प्रार्थना की और कोलकाता के प्रमुख सुरूचि संघ दुर्गा पूजा में पारंपरिक ढाक भी बजाई। इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए उत्तर प्रदेश के दारुल उलूम देवबंद के एक मौलवी ने कहा है कि इस्लाम अपने अनुयायी को अल्लाह के अलावा किसी भी ईश्वर की प्रार्थना करने की अनुमति नहीं देता है।

मौलवी ने टाइम्स नाउ से कहा, “वह इस तरह की प्रार्थनाओं में भाग लेती रही है, इसमें कोई नई बात नहीं है। हालाँकि, इस्लाम के तहत एक अनुयायी को अल्लाह के अलावा किसी अन्य भगवान को प्रार्थना करने की अनुमति नहीं है। यह हराम है।” रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने आगे कहा कि नुसरत को अपना नाम और धर्म बदलना चाहिए।

वहीं आजतक की रिपोर्ट के अनुसार, विश्व हिंदू परिषद ने उलूम के बयान का विरोध किया है। इस पूरे मसले पर विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार का कहना है कि ये जो गंगा-जमुना तहजीब की बात करते हैं और हमें सहिष्णुता का पाठ पढ़ाते हैं, वह पता चलता है।

उन्होंने कहा कि आज सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के कई मुस्लिम देशों में रामलीला होती है। उन्होंने आगे कहा, “हम मानकर चलते हैं कि भारत में जो भी मुसलमान हैं उनके पूर्वज हिंदू थे।”