समाचार
उद्धव ठाकरे आदित्य को बनाना चाहते मुख्यमंत्री, एनसीपी का विरोध देरी की वजह- रिपोर्ट

सामान्य न्यूनतम कार्यक्रम पर कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के बीच बातचीत जारी है परंतु शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री बनाने की मांग एनसीपी की असहजता का एक कारण है।

उद्धव ठाकरे का अपने बेटे आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठाना एनसीपी को असहज बना रहा है क्योंकि एनसीपी के ज्यादातर नेता आदित्य ठाकरे जैसे कम अनुभवी युवा नेता के नीचे काम नहींं करना चाहते हैं।

शरद पवार की पार्टी दोनों दलों के लिए बारी-बारी से मुख्यमंत्री पद पर भी काफी ज़ोर दे रही है। वहीं दोनों पार्टियों के नेता उद्धव ठाकरे के साथ काम करने के लिए तैयार हैं।

उच्च सूत्रों के मुताबिक महाराष्ट्र में सरकार गठन में देरी की वजह कांग्रेस नहीं बल्कि शरद पवार हैं जो कांग्रेस के बजाय शिवसेना पर ज्यादा आशंकित हैं। एनसीपी नेता शिवसेना से वैचारिक विरोधाभसों और उसके काम करने के तरीके को लेकर काफी होशियार है।

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, “शरद पवार की बातों को समझना आसान नहीं है।”

खबरों के अनुसार मौजूदा सौदा जिसपर वर्तमान में विचार हो रहा है उसमें कांग्रेस को विधानसभा अध्यक्ष और एक उप-मुख्यमंत्री का पद, शरद पवार की पार्टी को एक उप-मुख्यमंत्री और विधान परिषद अध्यक्ष का पद मिल सकता है। गौरतलब है कि तीनों पार्टियों को मंत्रिमंडल में बराबर की हिस्सेदारी मिलेगी।

(आईएएनएस  के समाचार से)