समाचार
वीर सावरकर के सम्मान के प्रस्ताव को महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने किया खारिज

महाराष्ट्र में विपक्षी दल भाजपा ने बुधवार को विधानसभा में वीर सावरकर की 54वीं पुण्यतिथि पर उनके सम्मान में एक प्रस्ताव पेश करने की मांग की थी। विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले ने इस पर चर्चा करने की अनुमति देने से ही साफ इनकार कर दिया।

एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, भाजपा ने वीर सावरकर को सम्मानित करने के लिए महाराष्ट्र राज्य विधानसभा में एक प्रस्ताव पेश करने की मांग की थी, जिसके बाद उनकी मांग को खारिज कर दिया गया।

संयोग से उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना कभी वीर सावरकर की कट्टर समर्थक हुआ करती थी। भाजपा ने अब शिवसेना के कांग्रेस-एनसीपी से हाथ मिलाने के बाद अपने सिद्धातों को भूलने का आरोप लगाया है।

प्रसिद्ध नाटककार योगेश सोमन को मुंबई विश्वविद्यालय से इसलिए जबरदस्ती छुट्टी पर भेज दिया गया क्योंकि उन्होंने वीर सावरकर के खिलाफ राहुल गांधी द्वारा की गई टिप्पणी की आलोचना की थी। ऐसे में राहुल गांधी की आलोचना करने पर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की चेतावनी दी गई है।

वीर सावरकर पर टिप्पणी के बाद राहुल गांधी ने यह कहते हुए माफी मांगने से इनकार कर दिया था, “मेरा नाम राहुल गांधी है, राहुल सावरकर नहीं।” इस पर सोमन ने कहा था कि राहुल के पास न तो सावरकर का कोई गुण है और न ही गांधी का।

वीडियो में सोमन ने राहुल गांधी की पप्पूगीरी की भी निंदा की थी। उन्होंने कहा कि पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सावरकर के उपनाम को भी ग्रहण करने के योग्य नहीं हैं।