समाचार
शोपियां में मुठभेड़ में पुलिस और राष्ट्रीय राइफल्स ने मिलकर ढेर किए दो आतंकी

शनिवार (13 अप्रैल) की सुबह कश्मीर के शोपियां जिले में दो आतंकवादियों को सेना ने गोलीबारी कर मार गिराया है। हालाँकि दोनों ही आतंकियों की पहचान अभी तक नहीं हुई है।

डेक्कन हेराल्ड  की रिपोर्ट में बताया गया है कि यह करवाई तब हुई जब सेना की 34 राष्ट्रीय राइफल्स और जम्मू-कश्मीर पुलिस के विशेष ऑपरेशन समूह ने मिलकर कर शोपियां से 58 किलोमीटर दूर गहिन्द में घेरा और खोज ऑपरेशन को शुरू किया।

पिछले तीन वर्षों से शोपियां आतंकवाद के लिए केंद्र बना हुआ है। शोपियां में रहने वाले युवा अलगावाद के समर्थन में हैं और अलगाववाद के लिए मरने वाले लोगों को वह अपनमा हीरो कहते हैं। शोपियां के स्थानीय युवाओं की इसी विचारधारा की वजह से आतंकवादियों के लिए यह एक आदर्श आतंकवाद क्षेत्र बना हुआ है।

14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले के बाद 16 एनकाउंटर हुए हैं जिनमे 38 आतंकवादियों को मारा गया है साथ ही जैश-ए-मोहम्मद के 20 आतंकवादियों को ख़त्म कर दिया गया है।

आंकड़ों की माने तो 2018 में कश्मीर में सेना ने कुल 250 आतंकवादियों को मारा है जो कि पिछले दस सालों की गिनती में सबसे ज़्यादा है। हालाँकि पिछले कुछ महीनों में आतंकवाद में शामिल होने वाले कश्मीर के युवाओं में कमी देखी गई है।