समाचार
“तांडव” को लेकर ट्विटर उपयोगकर्ताओं ने जताई आपत्ति, हिंदू विरोधी प्रचार का आरोप

वेब सीरीज़ तांडव के पहले भाग में भगवान शिव का रूप दिखाने और भगवान राम के बारे में टिप्पणी को लेकर सोशल मीडिया उपयोगकर्ता आपत्ति जता रहे हैं। कुछ उपयोगकर्ताओं ने इसे हिंदू विरोधी प्रचार-प्रसार बताया है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, तांडव वेब सीरीज़ को लेकर एक ट्विटर उपयोगकर्ता अंकिता ठाकुर ने लिखा, “अली अब्बास तांडव वेब सीरीज़ के निर्देशक हैं। इसमें पूरी तरह से वे वामपंथी एजेंडे को आगे बढ़ाने में जुटे हैं। वह टुकड़े-टुकड़े गैंग का महिमामंडन कर रहे हैं।”

सेक्युलरिज़्म ऑफ बॉलीवुड के नाम से ट्विटर उपयोगकर्ता ने ट्विट किया, “कट्टर विरोधी हिंदू एजेंडा एक वेब सीरीज़ में परिवर्तित कर दिया गया। भगवान शिव और राम ने खुलकर गाली दी और उपहास किया। भगवान शिव ने आपत्तिजनक शब्द बोले। वे हिंदुओं से नफरत करते हैं और हिंदू उनके शोज़ को बढ़ावा देते हैं। हैशटैग अनइंस्टॉलअमेजनप्राइम वीडियो।”

बता दें कि वेब सीरीज़ के पहले भाग में जीशान अयूब भगवान शिव के वेश में दिखते हैं और विश्वविद्यालय के छात्रों से पूछते हैं कि आपको किससे आजादी चाहिए। तभी एक मंच संचालक कहता है, ‘नारायण-नारायण। प्रभु कुछ कीजिए। रामजी के फॉलोवर्स लगातार सोशल मीडिया पर बढ़ रहे हैं। मुझे लगता है कि हमें भी कुछ नई रणनीति बनानी चाहिए। इस पर जीशान कहते हैं, ‘क्या करूं मैं तस्वीर बदल दूं?’ इस दृश्य को लेकर लोगों द्वारा आपत्ति की जा रही है।