समाचार
भगवान हनुमान का जन्म तिरुमाला की अंजनाद्री पहाड़ी पर हुआ, टीटीडी पेश करेगा साक्ष्य

भगवान हनुमान को जल्द ही एक निर्धारित जन्मस्थली मिल सकती है। दरअसल, तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) यह साबित करने के लिए एक साक्ष्य आधारित पुस्तक पेश करने जा रहा है कि भगवान हनुमान का जन्म तिरुमाला की सात पवित्र पहाड़ियों में से एक पर हुआ था।

तिरुमाला जो कि लोकप्रिय श्री वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर का निवास स्थान है। इसके पास सात पहाड़ियाँ हैं, जिनके नाम शेषाद्री, नीलाद्री, गरुदाद्री, अंजनाद्री, वृषाभाद्री, नारायणाद्री और वेंकाद्री है।

टीटीडी द्वारा नियुक्त विद्वानों की एक उच्च-स्तरीय समिति ने अंजनाद्री को भगवान हनुमान के जन्मस्थान के रूप में माना है। उनके अनुसार, अंजना देवी जो भगवान हनुमान की माँ हैं, ने तिरुमाला की सात पहाड़ियों में से एक पर तप किया था।

लाइवमिंट की रिपोर्ट के अनुसार, टीटीडी द्वारा दिसंबर 2020 में नियुक्त समिति में श्री वेंकटेश्वर वैदिक विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सनिधानम सुदर्शन शर्मा, राष्ट्रीय संस्कृत संस्करण के उप-कुलपति प्रोफेसर मुरलीधर शर्मा, प्रोफेसर रानीसदासिव मूर्ति, श्री जनुमद्दी रामकृष्ण और शंकरनारायण जैसे विद्वान शामिल हैं।