समाचार
टिकटॉक और वीचैट को चीनी कंपनियों ने 45 दिन में न बेचा तो अमेरिका में लगेगा प्रतिबंध

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने गुरुवार (7 अगस्त) को आदेश जारी किए कि अगर टिकटॉक और वीचैट अपनी चीनी मूल कंपनियों द्वारा नहीं बेचे जाते हैं तो 45 दिनों में इसके अमेरिकी संचालन पर प्रतिबंध लगा दिए जाएँगे।

वीडियो शेयरिंग ऐप टिकटॉक, बाइटडांस के स्वामित्व में है, जबकि टेनसेंट वीचैट की मूल कंपनी है, जो एक सोशल मैसेजिंग मंच है। बाइटडांस और टेनसेंट दोनों ही चीनी कंपनियां हैं।

सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, आदेश टिकटॉक को 45 दिनों में प्रतिबंधित करता है। इसमें कहा गया कि बाइटडांस के साथ किसी भी व्यक्ति द्वारा कोई लेनदेन या किसी संपत्ति के संबंध में अधिकार क्षेत्र संयुक्त राज्य के अधीन होगा। टिकटॉक अपने उपयोगकर्ताओं से स्वाचालित रूप से उनके स्थान, ब्राउजिंग और सर्च हिस्ट्री की जानकारी एकत्रित करता है।

अमेरिकी नागरिकों के डाटा तक पहुँचने वाला टिकटॉक के चीनी कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा अमेरिकियों की व्यक्तिगत और मालिकाना जानकारी तक पहुँचने का डर है। संभावित रूप से चीन संघीय कर्मचारियों और ठेकेदारों के स्थानों को ट्रैक करने, ब्लैकमेल के लिए व्यक्तिगत जानकारी एकत्रित करने और कॉरपोरेट जासूसी का संचालन करने की अनुमति देता है।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने वीचैट पर भी प्रतिबंध लगाने के लिए इसी तरह की कार्रवाई करते हुए एक अनुवर्ती कार्यकारी आदेश जारी किया। दोनों कार्यकारी आदेशों में ट्रम्प ने कहा, “सूचना, संचार प्रौद्योगिकी और सेवाओं की आपूर्ति शृंखला के संबंध में राष्ट्रीय आपातकाल से निपटने के लिए अतिरिक्त कदम उठाए जाने की जरूरत पाई गई है।ये राष्ट्रीय सुरक्षा, विदेश नीति और संयुक्त राज्य अमेरिका की अर्थव्यवस्था के लिए खतरा हैं।”

यह गौर किया जाना चाहिए कि भारत में टिकटॉक, वीचैट और 57 अन्य चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने के एक महीने बाद कार्यकारी आदेश राष्ट्रीय सुरक्षा चिंताओं को लेकर देश में संचालित हो रहे हैं।