समाचार
हैदराबाद नगर निगम चुनावों में भाजपा को दूसरा स्थान, टीआरएस को सर्वाधिक नुकसान

वृहत् हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) चुनावों में शुरुआती रुझानों में बहुमत प्राप्त करने के बाद भाजपा को अंतिम परिणामों में 48 सीटों से संतुष्ट होना पड़ा। हालाँकि 2016 के चुनावों में जहाँ भाजपा को चार सीटें मिली थी, वहाँ इतनी बड़ी उछाल काफी मायने रखती है।

असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल (एआईएमआईएम) ने मात्र 51 सीटों पर ही अपने उम्मीदवार खड़े किए थे जबकि कि 2016 के चुनावों में पार्टी 60 सीटों पर लड़ी थी। ऐसे में 44 सीटों पर इसकी जीत सर्वश्रेष्ठ स्ट्राइक रेट को दर्शाती है।

इस प्रकार भाजपा ने दूसरा स्थान प्राप्त करके एआईएमआईएम को तीसरे स्थान पर ढकेल दिया है। चुनावी प्रचार में भी भाजपा ने अमित शाह और योगी आदित्यनाथ जैसे बड़े नेताओं के साथ ताकत झोंकी थी व भाग्यनगर नाम का मुद्दा भी उठाया था।

इन चुनावों में अधिकांश सीट पाने वाली तेलंगाना राष्ट्रीय समिति (टीआरएस) को ही सर्वाधिक गिरावट भी झेलनी पड़ी। 2016 में यह 99 सीटें जीती थीं लेकिन इस बार 55 सीटों पर ही जीत दर्ज कर पाई। वहीं कांग्रेस मात्र दो सीटों पर जीती।