समाचार
टीआरपी मामले में अर्णब गोस्वामी ने न्यायालय से की मुंबई पुलिस की जाँच रोकने की माँग

रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्णब गोस्वामी ने बॉम्बे उच्च न्यायालय का रुख करते हुए कथित टेलीविजन रेटिंग्स प्वाइंट्स (टीआरपी) फर्जीवाड़े मामले में मुंबई पुलिस की आगे की जाँच पर रोक लगाने का अनुरोध किया है।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, अर्णब गोस्वामी और रिपब्लिक टीवी का मालिकाना हक रखने वाली एआरजी आउटलियर मीडिया ने दायर याचिका में आरोप लगाया गया कि कंपनी के एक कर्मचारी को पुलिस ने हिरासत में प्रताड़ित किया था।

याचिका में कहा गया कि चैनल के सहायक उप प्रमुख वितरण घनश्याम सिंह को 10 नवंबर को गिरफ्तार कर हिरासत में पीटा गया। अर्णब ने अपने कर्मचारियों की सुरक्षा की मांग की। उन्होंने कहा, “मुंबई पुलिस अपनी शक्तियों का दुरुपयोग कर रही है। यह जाँच बंद कर देनी चाहिए क्योंकि सारे आरोप निराधार है। जाँच के नाम पर हमें परेशान किया जा रहा है।”

आरोप लगाया गया कि मुंबई पुलिस गोस्वामी और एआरजी मीडिया के अन्य लोगों को फंसाने के लिए पूर्व निर्धारित तरीके से काम कर रही है। वह इसके लिए गवाहों को प्रभावित कर रही और याचिकाकर्ताओं के खिलाफ झूठे बयान दिलवा रही है।

याचिका में कहा गया कि अदालत को टीआरपी मामले की जाँच सीबीआई या किसी अन्य स्वतंत्र एजेंसी को हस्तांतरित कर देनी चाहिए। याचिका को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया जाना अभी बाकी है।