समाचार
त्रिपुरा (प) के जिला मजिस्ट्रेट शैलेश कुमार यादव विवाह में दुर्व्यवहार के मामले में निलंबित

वर्तमान विकास में त्रिपुरा (पश्चिम) के जिला मजिस्ट्रेट शैलेश कुमार यादव को राज्य सरकार ने निलंबित कर दिया है।

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने हाल ही में एक विवाह समारोह में छापा मारकर दुर्व्यवहार करते हुए चौंकाने वाले दृश्यों से सुर्खियाँ बटोरी थीं। उन्होंने वहाँ अपनी शक्तियों का दुरुपयोग किया और लोगों को गिरफ्तार करने की धमकी दी। साथ ही कथित तौर पर एक हिंदू पुजारी की पिटाई भी की थी।

डीएम ने कैमरे पर बयान दिया था, “इन लोगों को गिरफ्तार करो, तुम लोगों ने सरकारी आदेशों का उल्लंघन किया है। मैं तुम्हारा जिला मजिस्ट्रेट हूँ। तुम लोग भी इन सबके साथ निर्देशों के उल्लंघन में मिले हुए हो। यहाँ मौजूद लोगों को गिनें और बताएँ कि वे कितने हैं। मैं आपका जिला मजिस्ट्रेट हूँ और यह मेरा आदेश है।”

मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने इस घटना की जाँच का आदेश दिया था और मुख्य सचिव से रिपोर्ट माँगी थी। उसी के लिए दो आईएएस अधिकारियों की एक समिति बनाई गई थी।

इस सप्ताह की शुरुआत में डीएम शैलेश कुमार यादव अपने कार्यों की व्याख्या करने के लिए समिति के समक्ष उपस्थित हुए थे। यादव ने समिति को बताया, “कानून और व्यवस्था लागू करना और कोविड-19 के प्रसार को रोकना मेरा कर्तव्य है। मैंने उस रात जो कुछ भी किया था, मैं अपनी उस बात पर अब भी खड़ा हूँ।”

गौर करने वाली बात है कि डीएम के खिलाफ कार्रवाई को लेकर लगातार दबाव बढ़ रहा था, जिसमें भाजपा के पाँच विधायक भी शामिल थे।