समाचार
दर्शनीय स्थलों का विकास, संग्रहालय की स्थापना बजट 2020 में, विशिष्ट वर्गों के लिए कोष

पाँच पुरातत्व स्थलों को दर्शनीय स्थलों के रूप में विकसित किया जाएगा। इनमें हरियाणा का राखीगढ़ी, उत्तर प्रदेश का हस्तिनापुर, असम का शिवसागर, गुजरात का ढोलावीरा व तमिलनाडु का अदिचन्नलुर सम्मिलित है।

झारखंड की राजधानी रांची में भी एक जनजातीय संग्रहालय स्थापित करने की बात कही गई। साथ ही गुजरात के लोथल में हड़प्प सभ्यता को दर्शाने के लिए एक सामुद्रिक संग्रहालय भी बनाया जाएगा।

वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए बजट 2020 में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अनुसूचित जातियों के लिए 85,000 करोड़ रुपये और जनजातियों के लिए 53,700 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं। साथ ही वरिष्ठ जन व दिव्यांगजनों के लिए 9,500 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।