समाचार
पाकिस्तान के शीर्ष छह बैंकों के नाम वैश्विक बैंकों की मनी लॉन्ड्रिंग की भूमिका में शामिल
आईएएनएस - 22nd September 2020

मनी लॉन्ड्रिंग में वैश्विक बैंकों की भूमिका के आधार पर एक जाँच में करीब छह पाकिस्तान के बैंकों का नाम लिया गया है, जिनके द्वारा करीब 25 लाख डॉलर के लेन-देन का मामला है।

इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (आईसीआईजे) और बज़फीड न्यूज़ ने एक जाँच में पाया कि पाकिस्तानी बैंकों से संबंधित लगभग 25 लाख डॉलर के करीब 29 संदिग्ध लेन-देन हुए। इनका उपयोग मनी लॉन्ड्रिंग के लिए हो सकता है।

इनमें एलाइड बैंक, यूनाइटेड बैंक लिमिटेड, हबीब मेट्रोपॉलिटन बैंक, बैंक अल्फलाह, स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक पाकिस्तान और हबीब बैंक लिमिटेड हैं। जाँच के मुताबिक, वर्ष 2011, 2012 के दौरान सभी संदिग्ध लेन-देन हुए थे।

आईसीआईजे के साथ साझा किए गए बज़फीड न्यूज़ के जाँच विवरण से पता चला कि अमेरिकी ट्रेजरी डिपार्टमेंट की इंटेलिजेंस यूनिट, फाइनेंशियल क्राइम एनफोर्समेंट नेटवर्क ने 2,100 से अधिक संदिग्ध गतिविधि रिपोर्ट दर्ज की हैं।

रिपोर्ट में पता चला कि वैश्विक बैंकों ने संदिग्ध भुगतानों में 1999 और 2017 के बीच 2 खरब डॉलर से अधिक का कारोबार किया। इनमें 170 से अधिक देशों के ग्राहकों को चिह्नित किया, जिन्हें अवैध लेन-देन में शामिल माना गया।

पाकिस्तानी बैंकों के आँकड़ों के अनुसार, वहाँ से 29 संदिग्ध में से 19,42,560 डॉलर का लेन-देन हुआ, जबकि भेजे गए डॉलर का ट्रांजेक्शन 4,52,000 डॉलर रहा। इसमें अलाइड बैंक द्वारा करीब 12 संदिग्ध लेन-देन, यूनाइटेड बैंक लिमिटेड द्वारा आठ, बैंक अल्फलाह द्वारा तीन, स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक द्वारा चार और हबीब बैंक लिमिटेड द्वारा एक संदिग्ध ट्रांजेक्शन शामिल है।

रिपोर्ट ने पाकिस्तान की चरमराती अर्थव्यवस्था की वैश्विक छवि और मनी लॉन्ड्रिंग पर उसकी स्थिति पर सेंध लगा दी है। यह ऐसे समय में आया है, जब देश आतंकी वित्त पोषण और मनी लॉन्ड्रिंग को लेकर एफएटीएफ की 27-बिंदु-कार्य योजना को पूरा करने के लिए मेहनत कर रहा है।