समाचार
टीएमसी नेता ताहिरुद्दीन ने सीएए विरोधी रैली में गोलियाँ बरसाईं, दो लोगों की मौत

टीएमसी नेता ने बंगाल के मुर्शिदाबाद में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) विरोधी रैली में दो प्रदर्शनकारियों की हत्या कर दी।

इंडिया टुडे की खबर के अनुसार दो मृतक प्रदर्शनकारियों की पहचान मकबूल शेख और अनिरुद्ध बिस्वास के रूप में की गई है। उनके परिजनों ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने टीएमसी नेेेता को रोकने के लिए कुछ नहीं किया।

बिस्वास के बेटे के अनुसार उनके पिता स्थानीय मस्जिद में रोज नमाज पढ़ते थे और सीएए, एनआरसी के खिलाफ विरोध करने के लिए इलाके में हड़ताल की जाती थी।

हड़ताल के दौरान कुछ मारुति वैन में कथित तौर पर बिस्वास के पास आकर रुकीं क्योंकि वे मस्जिद से लौट रहे थे और टीएमसी नेता ताहिरुद्दीन को बाहर निकाला जिसने अचानक से गोलियाँ चला दीं।

बिस्वास और शेख गोलियों की चपेट में आ गए और उनकी मौत हो गई। हीरा खातून, जिसका भाई हमले में घायल हो गया, ने टीएमसी पर दोषारोपण किया, “…टीएमसी कार्यकर्ताओं ने मेरे भाई को गोली मार दी और टीएमसी के जलंगी ब्लॉक अध्यक्ष ने उनकी मदद की।”

कहा जा रहा है है कि यह टीएमसी और निवासियों के मंच, ‘नगरिक मंच’, के बीच हाथापाई का नतीजा था, जो सीएए, एनआरसी के खिलाफ हड़ताल कर रहा था। कथित तौर पर टीएमसी द्वारा हड़ताल को उठाने के लिए मंच को आदेश दिया गया था जिसके बाद स्थिति हिंसक हो गई थी।

मुस्लिम बहुल जिले में स्थानीय टीएमसी सांसद ने हालांकि अपनी पार्टी के खिलाफ आरोपों से इनकार किया है और दावा किया है कि हमला वास्तव में कांग्रेस और सीपीएम कार्यकर्ताओं की करतूत थी।