समाचार
तृणमूल ने सीबीआई के विरुद्ध दर्ज करवाई शिकायत, समर्थकों का कार्यालय पर हमला

नारदा घोटाले में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा कैबिनेट मंत्री फिरहाद हाकिम, सुब्रत मुखर्जी, विधायक मदन मित्रा और पूर्व मेयर शोभन चटर्जी को गिरफ्तार करने के मामले में पश्चिम बंगाल की शहरी विकास मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने तृणमूल कांग्रेस की ओर से जाँच एजेंसी के विरुद्ध एक आधिकारिक शिकायत दर्ज की है।

टाइम्स नाऊ के एक रिपोर्टर ने पश्चिम बंगाल पुलिस आयुक्त के पास दर्ज शिकायत को पढ़ते हुए कहा, “आज सुबह हुए एक दुर्भाग्यपूर्ण तथ्य को मैं आपके संज्ञान में लाने के लिए मजबूर हूँ। पूरा राज्य जब महामारी की स्थिति से लड़ रहा है। लोगों के जीवन को राज्य सरकार की ओर से बचाने के लिए सभी कदम उठाए जा रहे हैं, तब बड़ा आश्चर्य होता है कि सीबीआई ने आज सुबह हमारी पार्टी के तीन नेताओं के अतिरिक्त दो मंत्रियों को गिरफ्तार कर लिया।”

पत्र में लिखा गया है, “सीबीआई एक स्वतंत्र प्राधिकरण है और उसके स्वतंत्र रूप से कार्य करने की अपेक्षा है। हालाँकि, अपने स्वतंत्र चरित्र को उसने पूरी तरह से छोड़ दिया है और केंद्र सरकार व पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ के आदेश पर वह काम कर रही है।”

आगे कहा गया, “हम यह समझने में असमर्थ हैं कि राज्यपाल सीबीआई को किसी को गिरफ्तार करने का निर्देश कैसे दे सकते हैं, जबकि राज्य का कानून उन्हें ऐसा करने की अनुमति नहीं देता है। इन परिस्थितियों में मैं पार्टी की ओर से आपसे अनुरोध करूँगी कि सीबीआई अधिकारियों के खिलाफ तुरंत आवश्यक कार्रवाई करें, जिन्होंने प्रधानमंत्री, केंद्रीय गृह मंत्री और राज्य के राज्यपाल के दबाव में हमारे नेताओं को गिरफ्तार किया था।”

इससे पूर्व, पश्चिम बंगाल में लॉकडाउन के बीच तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता कोलकाता में सीबीआई कार्यालय के बाहर भारी संख्या में जमा हुए। पार्टी के झंडे लिए समर्थकों ने निजाम पैलेस पर हमला किया। दरवाजे की रखवाली कर रहे केंद्रीय बलों पर ईंटों और काँच की बोतलों से हमला किया। इस दौरान राज्य की पुलिस और कोलकाता पुलिस मूकदर्शक बनी रही।