समाचार
न्यायमूर्ति आर भानुमति बोलीं, “हिंदू हूँ पर यीशु के धर्मसिद्धांतों से प्रेरित हूँ”

सर्वोच्च न्यायालय की न्यायाधीश न्यायमूर्ति आर भानुमति 19 जुलाई को सेवानिवृत्त होंगी। उन्होंने अपने विदाई भाषण में कहा, “मैं हिंदू हूँ फिर भी भगवान यीशु के धर्मसिद्धांतों में विश्वास करती हूँ। यही वजह है कि यीशु की कृपा से मेरी शिक्षा अच्छी हुई और मैं अपने जीवन में आगे बढ़ सकी।”

लाइव लॉ की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने यह भी कहा, “मेरे रास्ते में बाधाओं के कई पहाड़ आए लेकिन कोई व्यक्ति उसमें बाधा नहीं बन सका क्योंकि भगवान यीशु ने उसे रोकने का पहले ही प्रबंध कर दिया था।”

उन्होंने अपने न्यायिक सफर की शुरुआत तमिलनाडु उच्चतर न्यायिक सेवा में जिला न्यायाधीश के रूप में की थी। उन्हें 2003 में मद्रास उच्च न्यायालय में पदोन्नत किया गया था। 2013 में उन्होंने झारखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में कार्यभार संभाला था।

वह अगस्त 2014 में सर्वोच्च न्यायालय में उच्च पद पर आसीन थीं और शीर्ष अदालत की न्यायाधीश बनने वाली छठी महिला थीं। विदाई समारोह में बोलते हुए अटॉर्नी-जनरल केके वेणुगोपाल ने अपने सेवानिवृत्ति को दुखद दिन बताया और उम्मीद जताई कि वह जल्द ही कानूनी पेशे में वापस आ जाएँगे।