समाचार
सोशल मीडिया पर भव्य जीवन के चित्रों से भी आयकर विभाग आ सकता है पीछे

1 अप्रैल से आयकर विभाग की महत्वाकांक्षी परियोजना इनसाइट शुरू हो जाएगी जिसके अंतर्गत कर अधिकारी करदाताओं पर सभी दिशाओं से नज़र रख पाएँगे ताकि कर चोरी को बचाया जा सके, इकोनॉमिक टाइम्स  ने रिपोर्ट किया।

पहले केवल बैंक लेन-देन से करदाताओं पर नज़र रखी जाती थी जिससे यदि नकद में लेन-देन होता था तो करचोरी की संभावना रहती थी। लेकिन अब इनसाइट परियोजना से आयकर विभाग फेसबुक, इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया माध्यमों से भी करचोरी पकड़ सकेगा।

इसका अर्थ यह कि यदि करदाता हाल ही में किसी विदेश यात्रा या नई गाड़ी का चित्र सोशल मीडिया पर डालेंगे जो उनकी आय से मेल नहीं खाता तो बिग डाटा की सहायता से आयकर विभाग इस विसंहति का पता लगा पाएगा। कोई भी विसंगति पाने पर आयकर विभाग कार्यालय या घर पर छापा मार सकेगा।

सरकारी कथन में बताया गया कि कर अनुपालन बढ़ाने के लिए इनसाइट परियोजना शुरू की गई है। “यह एकीकृत मंच टैक्स बेस बढ़ाने में मुख्य भूमिका निभाएगा और करचोरी रोकने के लिए डाटा खोज निकालेगा।”, विज्ञप्ति में कहा गया।