समाचार
राम मंदिर- जान गँवाने वाले शहीद कारसेवकों के लिए शिवसेना ने की स्मारक की मांग

अयोध्या में राम मंदिर के लिए अपने प्राण देने वाले कारसेवकों के लिए श्रद्धांजलि के रूप में शिवसेना ने अमर जवान ज्योति की तर्ज पर एक स्मारक की मांग की है। इसके अलावा, पार्टी ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार का साथ दिया है।

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, शिवसेना ने शुक्रवार को अपने मुखपत्र सामना के एक संपादकीय में मांग उठाई है। इसमें गया गया, “राम मंदिर के लिए कई कारसेवक शहीद हो गए हैं। अमर जवान ज्योति में जिस तरह से शहीदों के नाम लिखे गए हैं, उसी तरह स्मारक बनाकर शहीद हुए कारसेवकों के नाम भी अंकित होने चाहिए। यह स्मारक सरयू के तट पर बनवाया जाना चाहिए। ”

संपादकीय में कहा गया कि शिवसेना और राम मंदिर के लिए काम करने वाले अन्य हिंदू संगठनों के कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि दी जानी चाहिए। शिवसेना ने कहा, “कई लोग सरयू नदी के तट पर शहीद हो गए। नदी खून से लाल हो गई थी।”

उधर, सीएए को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एनसीपी और कांग्रेस को झटका देते हुए भाजपा का साथ दिया। उन्होंने साफ कर दिया कि वे राज्य में सीएए और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) को लागू करेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा, “मेरी महाराष्ट्र से संबंधित कई मुद्दों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बातचीत हुई। मैंने उनके साथ सीएए, एनपीआर और एनआरसी पर भी बात की। किसी को भी सीएए से डरने की जरूरत नहीं है। एनपीआर किसी को भी देश से बाहर नहीं निकालेगा।”