समाचार
रामायण और महाभारत की कथाओं ने बढ़ाया बराक ओबामा के मन में भारत के प्रति स्नेह

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा बचपन में इंडोनेशिया में रहने के दौरान हिंदू महाकाव्यों रामायण व महाभारत की कथाएँ सुना करते थे। इसी वजह से उनके मन में भारत के लिए विशेष स्थान है। उन्होंने इस बात का उल्लेख अपनी पुस्तक ‘ए प्रोमिस्ड लैंड’ में किया है।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, भारत के प्रति आकर्षण के बारे में उन्होंने बताया, “हो सकता है कि यह उसका आकर्षण है, जहाँ विश्व की जनसंख्या का छठा हिस्सा रहता है। करीब 2000 विभिन्न जातीय समुदाय रहते हैं। 700 से अधिक भाषाएँ बोली जाती हैं।”

उन्होंने बताया, “मैंने 2010 में राष्ट्रपति के रूप में भारत की यात्रा की थी। मैं इससे पहले कभी वहाँ नहीं गया था। हालाँकि, इस देश का मेरी कल्पना में हमेशा विशेष स्थान रहा है।”

ओबामा ने कहा, “आकर्षण की वजह यह भी हो सकती है कि बचपन में इंडोनेशिया में रहने के दौरान मैंने रामायण और महाभारत की कथाएँ सुनीं। इस कारण पूर्वी धर्मों में मेरी रुचि बढ़ गई। एक और वजह यह भी हो सकती है कि कॉलेज के मेरे भारतीय और पाकिस्तानी दोस्तों के समूह ने मुझे दाल और कीमा बनाना सिखाया और बॉलीवुड की फिल्में दिखाईं।”

बापू को लेकर पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, “इस देश के प्रति मेरे आकर्षण की एक और प्रमुख वजह महात्मा गांधी हैं। उनका सफल अहिंसक आंदोलन अन्य तिरस्कृत समूहों के लिए एक उम्मीद की रोशनी बना। उन्होंने मेरी सोच को बहुत प्रभावित किया है।”

बता दें कि ओबामा ने 2008 के चुनाव प्रचार अभियान से लेकर राष्ट्रपति के रूप में अपने पहले कार्यकाल के अंत में एबटाबाद (पाकिस्तान) में अलकायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन को मारने के अभियान तक की यात्रा का विवरण अपनी पुस्तक में दिया है।