समाचार
भारतीय सेना की कार्रवाई के डर से आतंकी संगठनों ने बंद किए अपने चार शिविर

पाकिस्तान के बालाकोट में भारतीय वायुसेना द्वारा किए गए हवाई हमले में जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों को तबाह करने के बाद, भारतीय सेना द्वारा कार्रवाई की आशंका पर पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) में जिहादी आतंकवादी संगठनों को अलर्ट जारी किया गया है कि वे अपने चारों आतंकी शिविरों को बंद कर दें, इंडिया टुडे  ने रिपोर्ट किया।

यह फैसला 16 मार्च को पीओके के निकाइल क्षेत्र में हुई एक बैठक में लिया गया जिसमें लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी अशफ़ाक़ बरवाल ने पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज़ इंटेलीजेंस (आईएसआई) के अधिकारियों से भेंट की।

पीओके में कोटली, निकाइल, पाला और बाघ में स्थित आतंकी शिविरों को बंद कर दिया गया है। यह चारों शिविर आतंकवादी अशफ़ाक़ बरवाल द्वारा संचालित किए जाते थे और जैश-ए-मोहम्मद और हिज़्बुल मुजाहिदीन के लिए काम किया जाता था।

इसके आलावा पाकिस्तान ने अभी तक नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम का उल्लंघन करना बंद नहीं किया है। साल 2019 में अभी तक पाकिस्तान 634 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन कर चुका और पिछले साल 1,629 पाकिस्तान ने यह उल्लंघन किया था।