समाचार
मंदिरों पर हमले की साजिश कर रहे दो आतंकवादियों पर एनआईए ने की चार्जशीट दर्ज

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार (11 मार्च) को उत्तर प्रदेश में हिज्बुल मुहाजिदीन द्वारा 2018 में आतंकी हमले की साजिश मामले में आरोप-पत्र दायर किया है। लखनऊ के विशेष न्यायालय में एजेंसी ने यह चार्जशीट दायर की जिसमें असम के कमरूज ज़मन और जम्मू-कश्मीर के भगौड़े आरोपी ओसामा बिन जावेद को भारतीय दंड संहिता के तहत आपराधिक साजिश करने के लिए गैर-कानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम के तहत आरोपी कहा गया है, बिज़नेस स्टैंडर्ड्स ने रिपोर्ट किया।

एनआईए के प्रवक्ता ने बताया, “जाँच में यह साबित हुआ है कि जावेद और ज़मन दोनों हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकी संगठन में शामिल हुए थे, जिसके तहत इन दोनों को उस आतंकी संगठन के दो कार्यकर्ताओं मोहम्मद अमीन और हज़ारी के द्वारा हथियारों का प्रशिक्षण जम्मू-कश्मीर के किश्तवर जिले के जंगलों में नौ महीनों तक दिया गया था”।

25 अगस्त 2018 को जावेद और रियाज़ नाइकू के कहने पर ज़मन को कानपुर भेजा गया जहाँ उसने कुछ मंदिरों की जांच-पड़ताल की ताकि वे योजना बना सकें कि कहाँ आतंकी हमलों को अंजाम दिया जा सकता है, प्रवक्ता ने इसी के साथ यह भी बताया कि ज़मन आतंकी हमलों को अंजाम देने के लिए हथियार और बारूद भी इकट्ठा कर रहा था।