समाचार
लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय की तकनीकी दक्षता बढ़ाने के लिए टेक सक्षम योजना

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (एमएसएमई) ने भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के साथ साझेदारी कर एक अनूठी तीन वर्षीय  परियोजना ‘टेक सक्षम’ की शुरुआत की है, जो प्रौद्योगिकी को अपनाने में सक्षम और प्रोत्साहन करेगा। साथ ही इस योजना में एमएसएमई अपने वैश्विक और क्षेत्रीय साथियों के खिलाफ भारतीयों को अधिक उत्पादक और प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए काम करेगी।

फाइनेंशियल एक्सप्रेस  की रिपोर्ट के अनुसार, सीआईआई और लघु उद्यम मंत्रालय द्वारा शुरू की गई इस परियोजना के तहत मंत्रालय औद्योगिक समूहों के साथ मिलकर शहरों में अक्टूबर 2019 में 10-12 कार्यशालाएँ आयोजित करेगी। इस मौके पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी मौजूद रहे।

सीआईआई-सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के वरिष्ठ निदेशक पिकेंद्र पाल सिंह ने कहा कि इस पहल से लगभग 10,000 एमएसएमई प्रभावित होने की संभावना है। परियोजना के पहले चरण में एमएसएमई उन क्षेत्रों पर केंद्रित होगी जो श्रम-ग्रहित और तकनीक-दक्षता ग्रहण के लिए सकारात्मक हो। साथ ही जिसमें तकनीक तौर पर प्रतिक्रिया देने की संभावना सबसे अधिक हो।

पिकेंद्र सिंह ने आगे कहा, “हम एक प्रौद्योगिकी पोर्टल भी शुरू कर रहे हैं, जिसमें ई-लर्निंग की संरचना होंगी। साथ ही, हम उस प्रौद्योगिकी की अवधारणा कर रहे हैं जिसमें हर साल पूरे भारत से 5 लाख से अधिक एमएसएमई लाभान्वित होंगे।”