समाचार
टाटा समूह एयर इंडिया का नए साल में कर सकता अधिग्रहण, है अकेला बोलीदाता- रिपोर्ट

यह चर्चा जोरों पर है कि टाटा समूह नए साल की शुरुआत में एयर इंडिया को खरीद सकता है। अगर टाटा की ओर से बोली 31 अगस्त की अंतिम तिथि को या उससे पहले लगाई जाती है तो लगता है कि संभवतः इसके लिए टाटा एकमात्र योग्य बोलीदाता होगा।

इसके बाद अगर टाटा की बोली को स्वीकार कर लिया जाता है तो उसे देने के लिए 90 दिन की अवधि 30 नवंबर तक शुरू होगी और 31 दिसंबर तक समाप्त हो जाएगी। इस वजह से एक संभावित परिदृश्य में टाटा 1 जनवरी 2021 तक एयर इंडिया पर नियंत्रण ले सकता है।

आईएएनएस ने इसको लेकर टाटा संस से पूछा लेकिन उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं दिया गया। टाटा समूह जिसके पास पहले से ही एयरलाइंस के कारोबार का अनुभव है ने एयर इंडिया के अधिग्रहण में रुचि दिखाई है।

माना जा रहा है कि टाटा एयर इंडिया के लिए एकमात्र बोलीदाता के रूप में उभरा है और इस सॉफ्टवेयर समूह के 31अगस्त से पहले बोली लगाने की संभावना है। एयर इंडिया के लिए लगाई जाने वाली बोली के लिए सरकार ने बार-बार कहा कि इसे बढ़ाया नहीं जाएगा।

समूह के पास पहले से ही विस्तारा के रूप में एयरलाइंस है। यह भी अब तक स्पष्ट नहीं है कि विस्तारा, एयर एशिया और एयर इंडिया के संभावित अधिग्रहण सहित एयरलाइंस उद्यमों को कैसे समेकित किया जाएगा।

रिपोर्टों के अनुसार, टाटा समूह ने पहले से ही इसकी तैयारी करनी शुरू कर दी है और जल्द ही औपचारिक बोली लगाने की संभावना है। इसके साथ अटकलें लगाई जा रही है कि टाटा एयर एशिया के साथ एयर इंडिया में अपनी मौजूदा हिस्सेदारी को एक इकाई में विलय करने की योजना बना रहा है।