समाचार
तमिलनाडु के तिरुवरुर में पाँच किशोरों ने शराब पीने के लिए तोड़ीं मंदिर की मूर्तियाँ

तमिलनाडु के तिरुवरुर जिले के पेरियनायकी अम्मन मंदिर में पाँच नाबालिगों को 25 सीमेंट की भगवान की मूर्तियों और प्रतिमाओं को तोड़ने के आरोप में पुलिस ने हिरासत में लिया है।

टाइम्स ऑफ इंडिया  की रिपोर्ट के अनुसार, कहा जा रहा है कि उनकी मूर्तियाँ तोड़ने के पीछे की मंशा उसके भीतर लगीं छड़ें चुराना था, ताकि उसे बेचकर वे शराब खरीद सकें। यह घटना मंदिर में होने वाले अभिषेक समारोह से पहले हुई थी।

जिन मूर्तियों को तोड़ा गया है, उनमें भगवान मुरुगन, पेरियनायकी, काल भैरव शामिल थे। वहीं, जो मूर्तियाँ क्षतिग्रस्त थीं, वे अलग-अलग जानवरों की थीं। आरोपी किशोरों को वर्तमान में तंजावुर शहर के एक किशोर सुधार गृह में रखा गया है।

हाल ही के वर्षों में तमिलनाडु में हिंदू मंदिरों के लिए सुरक्षा और उचित प्रबंधन की कमी को लेकर कई रिपोर्ट पेश की गई हैं। इनमें बताया गया कि 1200 से अधिक प्राचीन मूर्तियों को राज्य से बाहर तस्करी करके ले जाया गया था। हालाँकि, जिस तरह का अपराध किशोरों ने किया है, उससे यह घटना मंदिरों की सुरक्षा पर सोचने को मजबूर करती है।