समाचार
दिल्ली दंगे- ताहिर हुसैन ने की थी 1.30 करोड़ रुपये की फंडिंग, आरोप-पत्र में खुलासा

दिल्ली दंगों को लेकर पुलिस ने आरोप-पत्र दायर किया है, जिसमें आप के पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन की बड़ी भूमिका सामने आई है। जानकारी मिली है कि दंगे भड़काने के लिए उसने 1.30 करोड़ रुपये की फंडिंग की थी।

टाइम्स नाऊ हिंदी की रिपोर्ट के अनुसार, चांद बाग हिंसा मामले में दायर आरोप-पत्र में दावा किया गया कि दंगे भड़काने के लिए ताहिर हुसैन ने 1.3 करोड़ रुपये की फंडिंग की थी। उसने उमर खालिद से संपर्क किया था, जिस पर जेएनयू में देश विरोधी नारे लगाने का आरोप लगा था।

पुलिस ने आरोप लगाया कि ताहिर कथित रूप से जेएनयू के सीएए विरोधियों के संपर्क में था। उमर ने उससे दिल्ली में कुछ बड़ा करने की बात कही थी। ताहिर पीएफआई के सदस्यों से भी संपर्क करने की कोशिश में लगा था। दंगे से कुछ समय पहले जामिया क्षेत्र में उनकी बैठक हुई थी, जिसमें पूरा षड्यंत्र रचा गया था।

आरोप-पत्र में कहा गया कि ताहिर और उसके साथियों को पता था कि अमेरिकी राष्ट्रपति भारत आने वाले हैं। इस वजह से चांद बाग जैसे दिल्ली के 20 क्षेत्र चिह्नित किए गए, जहाँ सांप्रदायिक हिंसा आसानी से भड़काई जा सके। दिल्ली दंगों के लिए ताहिर ने 1.30 करोड़ रुपये की फंडिंग उपलब्ध करवाई। दंगे शुरू होने से एक दिन पूर्व ताहिर ने 22 फरवरी को अपनी पिस्तौल पुलिस से दोबारा जारी कराई। उसके साथ उसे 200 गोलियाँ दी गईं। उससे जब गोलियों का जवाब मांगा गया, तो वह संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया।

बता दें कि दिल्ली दंगे के मामले में 11 लोगों के खिलाफ आरोप-पत्र दायर हुआ है, जबकि ताहिर को छिपाने के आरोप में चार लोगों के खिलाफ आरोप-पत्र दायर हुआ है।