समाचार
“बेरोज़गारी और आतंकवाद है भारतीयों के लिए चिंता का विषय”- प्यू सर्वेक्षण

चुनाव से पूर्व अमेरिका स्थित प्यू अनुसंधान केंद्र द्वारा एक सर्वेक्षण रिपोर्ट जारी की गई है जिससे पता लगता है कि भारत की जनता बेरोज़गारी और आतंकवाद की समस्या को अहम बताने के बाद भी यह समझती है कि देश अब उन्नति की राह पर आगे बढ़ रहा है।

प्यू अनुसंधान केंद्र का यह सर्वेक्षण 23 मई 2018 से 23 जुलाई 2018 तक किया गया जिसमें देश के 2521 लोगों से सवाल जवाब किए गए।

सर्वेक्षण के अनुसार 65 प्रतिशत लोगों का मानना है कि देश पिछले 20 वर्षों की तुलना में अब प्रगति करता दिख रहा है। वहीं मात्र 20 प्रतिशत लोगों का कहना है कि देश की हालत अब ज़्यादा ख़राब है। 66 प्रतिशत लोगों का मानना है कि उनके बच्चे उनसे बेहतर जीवन जीएँगे। हालाँकि यह संख्या 2017 के सर्वेक्षण से 10 प्रतिशत कम है। यहाँ तक कि देश की तरक्की को बेहतर बताने वाली संख्या में भी 2017 की तुलना में 15 प्रतिशत की कमी आई है।

आँकड़े यह भी हैं कि एक तिहाई मतलब लगभग 76 प्रतिशत जनता ने पाकिस्तान को भारत के लिए एक बड़ा खतरा बताया है जिसमें से 63 प्रतिशत लोगों का कहना है कि यह देश के लिए बहुत ही गंभीर समस्या है। वहीं भारत ज़्यादातर जनता, 55 प्रतिशत लोगों ने बताया कि कश्मीर की समस्या देश के लिए सबसे बड़ा संकट है। सर्वेक्षण में जब लोगों से पिछले पाँच वर्षों में कश्मीर की स्थिति के बारे में पूछा गया तो 53 प्रतिशत लोगों ने स्थिति को बिगड़ता हुआ बताया है।

बेरोज़गारी के बारे में पूछा गया तो जनता ने बड़ी मात्रा में देश में बढ़ती बेरोज़गारी को बड़ी मुसीबत बताया है। इस प्रश्न के पूछे जाने पर 76 प्रतिशत युवाओं ने रोज़गार की कमी को बड़ा संकट बताया है। वहीं पिछले कुछ वर्षों में महंगाई के नियंत्रण में होने के बावजूद भी 73 प्रतिशत लोगों ने बढ़ती महंगाई को चिंता का विषय बताया है।