समाचार
इंदिरा बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में चुनाव पश्चात हुई हिंसा पर सुनवाई से स्वयं को किया पृथक

तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा पश्चिम बंगाल चुनाव के बाद की हिंसा के दौरान दो भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या की सीबीआई व एसआईटी जाँच की मांग वाली याचिका पर सुनवाई से शुक्रवार को सर्वोच्च न्यायालय की न्यायाधीश इंदिरा बनर्जी ने खुद को अलग कर लिया।

लॉ.बीट की रिपोर्ट के अनुसार, न्यायाधीश इंदिरा बनर्जी और न्यायाधीश एमआर शाह की खंडपीठ बंगाल में चुनाव के बाद हुई हिंसा के दौरान तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों द्वारा मारे गए भाजपा कार्यकर्ता के भाई बिस्वजीत सरकार की ओर से दायर एक याचिका पर सुनवाई कर रहे थे।

जैसे ही मामले को उठाया गया, वैसे ही न्यायाधीश इंदिरा बनर्जी ने कहा, “मुझे इस मामले को सुनने में कुछ कठिनाई हो रही है। इस मामले को दूसरी पीठ के समक्ष सूचीबद्ध किया जाए।”

न्यायाधीश एमआर शाह की खाली पीठ ने भी आदेश दिया, “मामले को किसी अन्य पीठ के समक्ष सूचीबद्ध करें, जिसका न्यायाधीश बनर्जी हिस्सा ना हों।”

हालाँकि, सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने मामले को आने वाले मंगलवार को सूचीबद्ध करने का अनुरोध किया लेकिन पीठ ने कहा कि किसी भी सूचीकरण की तिथि देना उचित नहीं होगा क्योंकि सुनवाई से पीठासीन न्यायाधीश अलग हो रहे थे।