समाचार
भारतीय मूल के सुंदर पिचाई अब गूगल के अलावा मूल कंपनी अल्फाबेट के भी होंगे सीईओ

भारतीय मूल के गूगल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) सुंदर पिचाई अब एक और कंपनी के सीईओ होंगे। गूगल के संस्थापकों ने गूगल की मूल कंपनी अल्फाबेट के सीईओ के रूप में पिचाई को नियुक्त किया है।

इस निर्णय के बाद सुंदर पिचाई विश्व की बड़ी कंपनियों में से एक अल्फाबेट में निर्णायक भूमिका में होंगे।

गौरतलब है कि गूगल के संस्थापक लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन ने अल्फाबेट में अपना पद त्याग दिया है। पेज और ब्रिन ने पत्र लिखकर बताया कि वे अपने पद छोड़ रहे हैं और सुंदर पिचाई को अपना दायित्व सौंप रहे हैं।

बता दें कि गूगल की शुरुआत 1998 में हुई थी और गूगल ने साल 2015 में अपनी मूल कंपनी के रूप में अल्फाबेट को बनाया था, लाइवमिंट  ने रिपोर्ट किया।

पिचाई ने ट्वीट कर बताया कि वे अपनी नई भूमिका को लेकर उत्साहित हैं। सुंदर पिचाई पिछले 15 वर्ष से गूगल के साथ हैं और पिचाई ने गूगल टूलबार और गूगल क्रोम बनाने में अहम भूमिका निभाई थी।

साल 2014 में उन्हें गूगल का सीईओ नियुक्त किया गया था और साल 2017 में वे अल्फाबेट के निदेशक मंडल में शामिल किए गए थे। इसमें कोई संदेह नहीं कि पिचाई के नेतृत्व में गूगल का विज्ञापन राजस्व तीन साल में 85 प्रतिशत बढ़ा है और कंपनी पिछले 15 तिमाही से लगातार मुनाफे में चल रही है।

47 वर्षीय सुंदर पिचाई तमिलनाडु के रहने वाले हैं और उन्होंने अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई आईआईटी खड़गपुर से पूरी की है।

गौरतलब है कि साल 2011 में पिचाई गूगल छोड़ने पर विचार कर रहे थे और ट्विटर ने पिचाई को नौकरी का प्रस्ताव भी दिया था पर बाद में गूगल ने उन्हें मना लिया था।

गूगल से पहले पिचाई सॉफ्टवेयर कंपनी एप्लाइड मैटिरियल्स और प्रबंधन परामर्श कंपनी फर्म मैकेंजी में काम कर चुके हैं।