समाचार
बीआरओ लद्दाख में नई मशीनों से सड़कों के निर्माण के लिए 10 गुना तेज़ी से कर रहा काम

पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीन के बीच चल रहे तनाव के बीच सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण क्षेत्र में सभी सड़क परियोजनाओं पर काम पूरा करने के लिए चौबीसों घंटे काम करना शुरू कर दिया है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, सड़क निर्माण की कवायद अब 10 गुना तेज हो गई है क्योंकि बीआरओ ने अब नई मशीनरी तैनात की है। एक ओर, बीआरओ के श्रमिक और काम पर रखे जाने वाले श्रमिक सप्ताहांत पर दो शिफ्ट में काम कर रहे हैं। दो एशियाई दिग्गजों के बीच एलएसी में तनावपूर्ण और अस्थिर स्थिति को देखते हुए बीआरओ ने अपने कार्यबल में काफी वृद्धि की है।

दूसरी ओर, नवीनतम मशीनों के लिए करोड़ों रुपये खर्च किए गए हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सड़कों को काटने और रास्ता बनाने के लिए चट्टानों को विस्फोटकों की मदद से तोड़ने के कार्य में कोई देरी न आए। बीआरओ सर्दियों से पहले सड़कों को साफ करने के लिए भारी मशीनरी तैनात कर रहा है।

बीआर की 81 रोड कंस्ट्रक्शन कंपनी के कमांडिंग एग्जीक्यूटिव इंजीनियर अधिकारी बी किशन ने कहा, “वर्तमान हालात में सेना और अन्य सुरक्षाबलों को किसी भी भारी मशीनरी के परिवहन में मदद करने के लिए बीआरओ ने नवीनतम मशीनों को अपनाया है, जो आपको भारत के अन्य हिस्सों में कहीं भी नहीं मिलेंगी। ये मशीनें मानवीय जोखिम को कम कर रही हैं। हम विस्फोटकों के साथ सड़कों को बनाने के लिए पहाड़ों को काट रहे हैं।”

किशन ने रेखांकित किया कि नई मशीनों के साथ सड़क बनाने की गति दस गुना बढ़ गई है।