समाचार
स्टार्ट-अप इंडिया के तहत मई माह में हर घंटे एक संस्था बनी लाभार्थी, लाखों रोजगार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल स्टार्ट-अप इंडिया और मेक इन इंडिया योजना पर सरकार ने मई 2019 में तीव्र गति से काम किया और हर घंटे में एक कंपनी को स्टार्ट-अप का दर्जा देकर उसे कर मुक्ति और प्रोत्साहन राशि के योग्य बनाया, लाइवमिंट  ने रिपोर्ट किया।

उद्योग एवं आंतरिक व्यापार के प्रोत्साहन विभाग (डीपीआईआईटी) के अनुसार स्टार्ट-अप इंडिया के अंतर्गत 18,861 संस्थाओं को स्टार्ट-अप का दर्जा मिला जिनमें से 814 लाभार्थी मात्र मई माहीने में बने।

फरवरी 2019 में सरकार ने स्टार्ट-अपों की शेयर बिक्री को कर मुक्त करने का प्रावधान बनाया था। इस प्रयास के सात इसका लाभ उठाने वाले क्षेत्र का विस्तार कर अन्य कंपनियों को भी इसमें जोड़ा गया। इसका लाभ सभी योग्य स्टार्ट-अपों को मिला।

डीपीआईआईटी के सचिव अभिषेक ने बताया कि 16,105 स्टार्ट-अपों से 1,87,004 लोगों को रोगजार मिला है जिसके अनुसार प्रति स्टार्ट-अप से 11 से अधिक लोगों को सीधा रोजगार मिला। हर प्रत्यक्ष रोजगार के साथ अप्रत्यक्ष रोजगार के तीन गुना अवसर भी निर्मित होते हैं, जिसका अर्थ है इस योजना ने 5.6 लाख से अधिक लोगों को रोजगार मिला।