समाचार
श्रीलंका में बुर्क़ा, नक़ाब समेत चेहरा ढकने वाली अन्य चीजों पर लगा प्रतिबंध

श्रीलंका में ईस्टर उत्सव पर हुए आतंकी हमले के बाद राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने घोषणा की है कि उन सभी परिधानों, कपड़ों पर प्रतिबंध लगा दिया जाता है, जिससे चेहरा ढका जाता है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, सरकार का यह फैसला 29 अप्रैल से लागू हो गया है। आपातकालीन प्रावधानों के तहत चेहरा ढकने वाली कोई भी चीज, जिससे किसी शख्स की पहचान बाधित हो सके, उसे प्रतिबंधित किया गया है। कहा गया कि ऐसे व्यक्ति राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा हो सकते हैं।

श्रीलंका सरकार की कैबिनेट ने हाल ही में हुई बैठक में कानून बनाने का प्रस्ताव पेश किया था। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, श्रीलंका में मुसलमान कुल जनसंख्या के दस प्रतिशत हैं। हालाँकि, ज्यादातर श्रीलंकाई मुस्लिम अपने धर्म के प्रति उदार हैं। इस तरह कुछ प्रतिशत मुस्लिम महिलाएँ ही पूरा चेहरा ढकने वाला बुर्क़ा या नक़ाब पहनती हैं।

राष्ट्रपति कार्यालय द्वारा जारी बयान में कहा गया, “यह प्रतिबंध राष्ट्रीय सुरक्षा स्थापित करने के उद्देश्य से लगाया गया है। किसी को भी अपना चेहरा नहीं ढकना चाहिए, ताकि सुरक्षा एजेंसियों को उसकी पहचान में दिक्कत न हो।”

श्रीलंका में हुए आतंकी हमले में अब तक 253 लोग मारे गए हैं, जबकि कई अन्य घायल हैं। श्रीलंका में गृहयुद्ध के एक दशक बाद यह सबसे बड़ी जनहानि है। इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन आईएसआईएस ने ली थी।