समाचार
स्पुतनिक लाइट को डीसीजीआई से तीसरे चरण के सेतु परीक्षण की अनुमति मिली

रूसी वैक्सीन स्पुतनिक लाइट को भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) से तीसरे चरण के सेतु परीक्षण की अनुमति मिल गई है। अब भारतीय आबादी पर इस एकल खुराक वाले टीके के परीक्षण हो सकेंगे।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, डीसीजीआई की विषय विशेषज्ञ समिति ने हाल ही में स्पुतनिक लाइट के परीक्षण की सिफारिश की थी। जुलाई में सीडेस्को ने वैक्सीन को आपातकालीन उपयोग प्राधिकार देने से मना कर दिया था। उसने स्थानीय परीक्षण को आवश्यक बताया था।

बता दें कि लैंसेट में प्रकाशित एक अध्ययन बताता है कि कोविड-19 के विरुद्ध स्पुतनिक लाइट ने 78.6 से 83.7 प्रतिशत की प्रभावकारिता दिखाई है। यह दो खुराक वाली कई वैक्सीन उम्मीदवारों की तुलना में अधिक है। यह अध्ययन अर्जेंटीना में कम से कम 40,000 वृद्धों पर किया गया था।

गुणवत्ता और सुरक्षा की जाँच के लिए स्पुतनिक लाइट की पहली शृंखला को कसौली स्थित केंद्रीय औषधीय प्रयोगशाला में भेज दिया गया। परीक्षण में सम्मिलित होने वाले प्रतिभागियों को सुरक्षित ढंग से खुराक दी जाएँगी।